मीराबाई चानू का जीवन परिचय | Mirabai Chanu Biography in Hindi

0
908
मीराबाई चानू का जीवन परिचय Mirabai Chanu Biography in Hindi
मीराबाई चानू का जीवन परिचय Mirabai Chanu Biography in Hindi

मीराबाई चानू का जीवन परिचय | Mirabai Chanu Biography in Hindi : मीराबाई चानू एक इंडियन ओलिंपिक प्लेयर हैं। जिन्होंने हाल ही में टोक्यो में चल रहे ओलंपिक में इंडिया को पहला मेडल दिलाया है। मीराबाई चानू ने 202 किलो का वजन उठाकर सिल्वर मेडल अपने नाम किया है। आप लोगों को यह जानकर हैरानी होगी कि भारत को वेटलिफ्टिंग ओलंपिक मेडल पूरे 21 साल के बाद मिला है मीराबाई ने महिलाओं की वेटलिफ्टिंग में 48 किलोग्राम में पहला स्थान हासिल कर लिया है। ओलिंपिक में नीरज चोपड़ा ने भी भारत को गोल्ड जीत के दिलाया था।

मीराबाई चानू न्यू वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप साल 2017 में 194 kg का वेट उठाकर गोल्ड को अपने नाम कर लिया था जब साल 2017 में मीराबाई चानू ने कोल्ड अपने नाम किया था तब मीराबाई मात्र 22 साल की थी आपको यह जानकर हैरानी होगी। जिस दिन मीराबाई चानू गोल्ड अपने नाम किया उस दिन उनकी सगी बहन की शादी थी वह शादी में ना जाकर अपनी लक्ष्य के पीछे लगी रही और यही वजह है कि आज वह एक चैंपियन के रूप में हम लोगों के सामने हैं।

Contents hide

मीराबाई चानू के विषय में संक्षिप्त जानकारी

नाममीराबाई चानू
वास्तविक नामसाइखोम मीराबाई चानू
जन्म8 अगस्त 1994
जन्म स्थानमणिपुर भारत
उम्र27 वर्ष
पितासाइखोम कृति
मातासाइखोम ओंगबी टोंबी लेइमा
भाईसाइखोम सनातोंबा
बहनसाइखोम रंगिता, साइखोम शाया
पेशाWeightlifting
कोचकुंजारानी देवी
Mirabai Chanu Biography

Mirabai Chanu Biography in Hindi | मीराबाई चानू का जीवन परिचय

मीराबाई चानू एक भारतीय महिला है और यह मणिपुर की रहने वाली हैं मीराबाई चानू एक ओलंपिक भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने हाल ही में टोक्यो में चल रहे ओलंपिक में भारत को पहला मेडल दिलाया है। मीराबाई चानू ने ओलंपिक के इस खेल में गोल्ड मेडल प्राप्त करने के लिए बहुत ही ज्यादा हार्ड वर्क किया है। भारत को वेटलिफ्टिंग ओलिंपिक मेडल पूरे 21 साल बाद मिला है मीराबाई ने वेटलिफ्टिंग ओलंपिक मेडल प्राप्त करके विश्व भर में भारत का सर गर्व से ऊंचा कर दिया है। मीराबाई चानू पहली ऐसी महिला हैं जिन्होंने ओलंपिक खेल में 49 किलोग्राम की कैटेगरी में रजत पदक प्राप्त किया है और भारत का सर गर्व से ऊंचा कर दिया है।

ओलंपिक के वेटलिफ्टिंग खेल में सिल्वर मेडल लाने वाली मीराबाई चानू को आज ना केवल उनके परिवार वाले बल्कि पूरे देश के सभी लोग उन्हे बधाई दे रहे हैं इतना ही नहीं मीराबाई को स्वयं पीएम नरेंद्र मोदी ने फोन करके बधाइयां दिए हैं। देश के सभी लोगों ने मीराबाई के प्रति हौसला जताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ट्वीट करते हुए कहा कि “हमें ही नहीं बल्कि देश के सभी लोगों को मीराबाई चानू के ऊपर गर्व है मीराबाई चानू ने वह करके दिखाया है। जो कि अब तक किसी भी महिला ने नहीं किया था” मीराबाई चानू को इसी साल भारत सरकार ने पद्मश्री से भी सम्मानित किया है यह उनके लिए बहुत बड़ा सम्मान है मीराबाई की विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रदर्शन को देखते हुए भारत को मीराबाई से आगे भी कई उम्मीदें हैं।

मीराबाई चानू का जन्म कब और कहां हुआ था?

मीराबाई चानू एक मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखते थी मीराबाई चानू का जन्म 8 अगस्त 1994 में हुआ था मीराबाई का जन्म मणिपुर जिला के इम्फाल में हुआ था यह मणिपुर के पूर्व में स्थित है इस समय मीराबाई की उम्र लगभग 27 वर्ष है। मीराबाई चानू इंस्टाग्राम पर भी काफी एक्टिव रहती है।

मीराबाई चानू का परिवारिक संबंध कैसा है?

मीराबाई एक मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखती हैं और इनकी परिवारिक संबंध काफी अच्छी है। मीराबाई के माता-पिता उनके लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए इनकी बहुत ही ज्यादा सहायता किए हैं मीराबाई के माता का नाम साइखोम ओंगबी टोंबी लेइमा है यह एक दुकानदार हैं। मीराबाई चानू के पिता का नाम साइखोम कृति है यह एक पीडब्ल्यूडी डिपार्टमेंट में काम करते हैं मीराबाई चानू की दो बहने हैं जिनका नाम साइखोम रंगीता और साइखोम शाया है और इनका एक भाई भी है जिसका नाम साइखोम सनातोंबा है।

मीराबाई चानू का व्यक्तिगत जीवन

मीराबाई चानू एक वेटलिफ्टिंग भारतीय खिलाड़ी हैं और यह अब तक अविवाहित हैं। मीराबाई चानू वर्तमान समय में सिंगल है इनके विवाह न करने का कारण यह है कि उन्हें लगता था कि अगर यह विवाह कर लेंगी तो यह अपने लक्ष्य से भटक जाएंगे जिसकी वजह से उन्होंने अभी तक विवाह नहीं किया। मीराबाई चानू की उम्र अब तक 27 वर्ष हो चुकी है।

मीराबाई चानू की कोच कौन है?

मीराबाई चानू की कोच का नाम कुंजरानी देवी है कुंजरानी देवी भी मणिपुर की रहने वाली हैं। कुंजरानी देवी खुद भी वेटलिफ्टिंग में एक भारतीय खिलाड़ी रह चुकी हैं मीराबाई चानू को बचपन से ही वेटलिफ्टिंग का शौख था उन्होंने अपने लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए वेटलिफ्टिंग शुरू कर दी मीराबाई चानू ने कुंजारानी देवी के अंतर्गत वेटलिफ्टिंग किया है।

मीराबाई चानू कब जीती थी पहला मेडल?

मीराबाई चानू ने 11 साल की उम्र में ही जीता था पहला मेडल मीरा ने लोकल वेटलिफ्टिंग टूर्नामेंट में वेटलिफ्टिंग में 11 साल की उम्र में ही पहला गोल्ड अपने नाम कर लिया था। मीराबाई चानू की बॉडी बिल्कुल स्लिम और फिट है मीराबाई की Height 5 फीट है और उनका वजन 48 किलोग्राम है।

मीराबाई चानू शिक्षा

मीराबाई चानू कहां तक पढ़ी है और किस विद्यालय में पड़ी हैं इसकी कोई जानकारी नहीं है यहां तक कि इनके शिक्षा के बारे में इंटरनेट पर भी जानकारी नहीं है लोगों का मानना है कि मीराबाई चानू ने स्नातक किया है लेकिन यह बात सही है या फिर गलत इसके बारे में अभी तक कोई सही जानकारी नहीं मिली है।

मीराबाई चानू की चैंपियन बनने की कहानी

साल 2016 से ही मीराबाई चानू की रियो ओलंपिक से ओलंपिक तक का सफर काफी गजब की रही 2016 की बात है। जब मीराबाई रियो ओलंपिक के दौरान उन से बाहर नहीं उठा था बाहर ना उठने की वजह से मीराबाई के नाम के आगे डिड नॉट फिनिश लिख दिया गया था। मीराबाई के नाम के आगे डिड नॉट फिनिश का टैग लगाने की वजह से मीराबाई अपना मनोबल पूरी तरह खो चुकी थी आपको हम बता दें जब मीराबाई का ओलंपिक में इवेंट था उस समय हमारे देश यानी भारत में रात हो रही थी यही कारण है कि बहुत ही कम लोग इस नजारे को देख पाए जब मीराबाई भारी वेट उठाने जा रही थी तभी अचानक से उनका हाथ रुक जाता है। आपको जानकर यह हैरानी होगी कि मीराबाई इसी वेट को पहले कई बार उठा चुकी थी मीराबाई चानू के द्वारा भारी वेट नहीं उठने की वजह से वह डिप्रेशन में चली गई थी।

और वह इस हद तक डिप्रेशन में चली गई थी कि उनको साइकैटरिस्ट की मदद लेनी पड़ी जिसकी वजह से वह काफी लंबे समय बाद डिप्रेशन से बाहर आएं मीराबाई चानू की लाइफ का यह सबसे बड़ा हाथी इस हार की वजह से वह सदमे में थी उन्होंने यहां तक सोच लिया था कि अब वेटलिफ्टिंग को अलविदा कह देंगे लेकिन मीराबाई चानू को अपने आपको ग्रुप करना था और अपनी ख्वाहिशों को पूरा करना था जिसकी वजह से उन्होंने वेटलिफ्टिंग में दोबारा कदम रखी मीराबाई के इसी फैसले की वजह से आज वह इतनी बड़ी कामयाबी हासिल कर ली। आपको शायद यह पता नहीं होगा मीराबाई चानू ने कामनवेल्थ गेम्स 2018 में गोल्ड जीता था और उसके बाद उन्होंने ओलंपिक में सिल्वर मेडल को अपने नाम किया था।

मीराबाई चानू कब जीती थी गोल्ड मेडल

मीराबाई चानू न्यू वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप साल 2017 में 194 kg का वेट उठाकर गोल्ड को अपने नाम कर लिया था। जब साल 2017 में मीरा ने कोल्ड अपने नाम किया था तब मेरा मात्र 22 साल की थी। आपको यह जानकर हैरानी होगी जिस दिन मेरा गोल्ड अपने नाम किया उस दिन उनकी सगी बहन की शादी थी। वह शादी में ना जाकर अपनी ख्वाहिशों के पीछे लक्ष्य के पीछे लगी रही और यही वजह है कि आज वह एक चैंपियन के रूप में हम लोगों के सामने हैं।

साल 2018 में पेट के दर्द के बाद मीरा ने किया जबरदस्त वापसी

मीराबाई चानू की 2018 में पेट के दर्द की वजह से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा लेकिन फिर भी मीराबाई चानू हार नहीं मानी उन्होंने साल 2019 में थाईलैंड वर्ल्ड चैंपियनशिप से वापसी की वह उस वर्ल्ड चैंपियनशिप में चौथे नंबर पर रही उस समय मीराबाई चानू ने अपने लाइफ में सबसे ज्यादा वजन 200 kg से भी ज्यादा उठाया था। मीराबाई को भारत सरकार द्वारा काफी सहारा मिला जिसके बाद मीरा को उनके चोट के इलाज के लिए अमेरिका भी भेजा गया था और फिर मीराबाई अपनी कैरियर की तरफ वापसी की और वह धीरे-धीरे अधिक से अधिक वेट उठाने में सफल हो गई।

मीराभाई चानू को कब मिले थे पुरस्कार और सम्मान

वर्ष 201415 गोल्ड मेडल 30 सिल्वर मेडल और 19 कस्य पदक जीते
वर्ष 201448 किलोग्राम की कैटेगरी में सिल्वर मेडल (ग्लासगो कॉमनवेल्थ
वर्ष 2016गोल्डन मेडल (12वीं साउथ एशियन गेम्स गुवाहाटी में)
वर्ष 201748 किलोग्राम की कैटेगरी में गोल्ड मेडल (वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप)
वर्ष 201848 किलोग्राम की कैटेगरी में गोल्ड मेडल (कॉमनवेल्थ गेम्स)
मणिपुर के मुख्यमंत्री के द्वारा 2000000 रुपए की राशिखेलों में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए
वर्ष 202150 किलोग्राम की कैटेगरी में सिल्वर मेडल (टोक्यो ओलंपिक खेल में)

Q1- मीराबाई चानू कहां की रहने वाली है?

Answer : मीराबाई चानू मणिपुर की रहने वाली है।

Q2– मीराबाई चानू का वेट कितना है?

Answer : मीराबाई चानू 48 kg.

Q3- मीराबाई चानू के पिता का क्या नाम है?

Answer : साइखोम कृति है।

Q4- मीराबाई चानू के माता का क्या नाम है?

Answer : साइखोम ओंगबी टोंबी लेइमा है।

Q5-मीराबाई चानू का जन्म कब हुआ था?

Answer : 8 अगस्त 1994 में हुआ था।

Read More :-

Rate this post
Previous articlePaytm Personal Loan Kaise Le | 2.5 लाख रुपये तक पेटीएम से लोन कैसे लें?
Next articleडेबिट कार्ड क्या है | Debit Card in Hindi
Hello दोस्तों मैं इस ब्लॉग का Writer और Founder हूँ और इस वेबसाइट के माध्यम से Hindi Biography, Health, Viral News And Festival Quotes के बारे में जानकारी Share करता हूँ। प्रसिद्ध लोगों की Hindi Biography को आप तक पहुंचाना हमारा मुख्य उद्देश्य है। हिंदी बायोग्राफी के साथ-साथ आपको यहां Blogging, Online Earning और Internet Tricks से संबंधित पोस्ट भी हिंदी भाषा में मिलते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here